ghazal in hindi lyrics | ghazals lyrics in hindi | ghazal lyrics in hindi

ghazal in hindi lyrics,ghazals lyrics in hindi,ghazal lyrics in hindi,ghazals in hindi lyrics,hindi ghazals lyrics,ghazals hindi lyrics. 

ghazal in hindi lyrics, ghazals lyrics in hindi, ghazal lyrics in hindi, ghazals in hindi lyrics, hindi ghazals lyrics, ghazals hindi lyrics, lyrics of hindi ghazals, हिंदी गजल lyrics, ghazal lyrics hindi, gazal hindi lyrics,
GHAZAL IN HINDI LYRICS


  • ghazal in hindi lyrics,
  • ghazals lyrics in hindi,
  • ghazal lyrics in hindi,
  • ghazals in hindi lyrics,
  • hindi ghazals lyrics,
  • ghazals hindi lyrics,
  • lyrics of hindi ghazals,
  • हिंदी गजल lyrics,
  • ghazal lyrics hindi,
  • gazal hindi lyrics,

ghazals lyrics in hindi:-

Ghazal Poetry is form or poetry Ghazal Shayari Sms Collection in Hindi. urdu Ghazal Shayari For Girlfriend, urdu Ghazal Shayari For Zindgi Life in Hindi. Romantic Urdu Ghazal For Girlfriend and Wife. Love Ghazal Shayari, Best Sad ghazal Shayari, best ghazals, latest Gazals, Share all short Gazal Shayari text stuff. We Have A huge Collection of Ghazal Shayari lined up for our visitors to read..

Best ghazal shayari in hindi..

 
कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बंधा हुआ ।
वो ग़ज़ल का लहजा नया-नया, न कहा हुआ न सुना हुआ ।
 
जिसे ले गई अभी हवा, वे वरक़ था दिल की किताब का,
कहीँ आँसुओं से मिटा हुआ, कहीं, आँसुओं से लिखा हुआ ।
 
कई मील रेत को काटकर, कोई मौज फूल खिला गई,
कोई पेड़ प्यास से मर रहा है, नदी के पास खड़ा हुआ ।
 
मुझे हादिसों ने सजा-सजा के बहुत हसीन बना दिया,
मिरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेंहदियों से रचा हुआ ।
 
वही शहर है वही रास्ते, वही घर है और वही लान भी,
मगर इस दरीचे से पूछना, वो दरख़्त अनार का क्या हुआ ।
 
वही ख़त के जिसपे जगह-जगह, दो महकते होटों के चाँद थे,
 
किसी भूले बिसरे से ताक़ पर तहे-गर्द होगा दबा हुआ ।
*********************
 

A Hindi Sad Love Ghazal in Hindi Text..

 
दिल की बात लबों पर लाकर, अब तक हम दुख सहते हैं|
हम ने सुना था इस बस्ती में दिल वाले भी रहते हैं|
 
बीत गया सावन का महीना मौसम ने नज़रें बदली,
लेकिन इन प्यासी आँखों में अब तक आँसू बहते हैं|
 
एक हमें आवारा कहना कोई बड़ा इल्ज़ाम नहीं,
दुनिया वाले दिल वालों को और बहुत कुछ कहते हैं|
 
जिस की ख़ातिर शहर भी छोड़ा जिस के लिये बदनाम हुए,
आज वही हम से बेगाने-बेगाने से रहते हैं|
 
वो जो अभी रहगुज़र से, चाक-ए-गरेबाँ गुज़रा था,
उस आवारा दीवाने को 'ज़लिब'-'ज़लिब' कहते हैं
*******************

 

Sad ghazals in hindi lyrics on maa..

 
बेसन की सोंधी रोटी पर
खट्टी चटनी जैसी माँ
 
याद आती है चौका-बासन
चिमटा फुकनी जैसी माँ
 
बाँस की खुर्री खाट के ऊपर
हर आहट पर कान धरे
 
आधी सोई आधी जागी
थकी दोपहरी जैसी माँ
 
चिड़ियों के चहकार में गूंजे
राधा-मोहन अली-अली
 
मुर्ग़े की आवाज़ से खुलती
घर की कुंडी जैसी माँ
 
बिवी, बेटी, बहन, पड़ोसन
थोड़ी थोड़ी सी सब में
 
दिन भर इक रस्सी के ऊपर
चलती नटनी जैसी माँ
 
बाँट के अपना चेहरा, माथा,
आँखें जाने कहाँ गई
 
फटे पुराने इक अलबम में
चंचल लड़की जैसी माँ..
**************
 

hindi ghazal shayari facebook

 
तेरा हिज्र मेरा नसीब है तेरा ग़म ही मेरी हयात है
मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों तू कहीं भी हो मेरे साथ है
 
मेरे वास्ते तेरे नाम पर कोई हर्फ़ आये नहीं नहीं
मुझे ख़ौफ़-ए-दुनिया नहीं मगर मेरे रू-ब-रू तेरी ज़ात है
 
तेरा वस्ल ऐ मेरी दिलरुबा नहीं मेरी किस्मत तो क्या हुआ
मेरी महजबीं यही कम है क्या तेरी हसरतों का तो साथ है
 
तेरा इश्क़ मुझ पे है मेहरबाँ मेरे दिल को हासिल है दो जहाँ
मेरी जान-ए-जाँ इसी बात पर मेरी जान जाये तो बात है..
********************
 

sad Love ghazal shayari hindi..

 
तन्हा तन्हा हम रो लेंगे महफ़िल महफ़िल गायेंगे
जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनायेंगे
 
तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं
देर न करना घर जाने में वरना घर खो जायेंगे
 
बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो
चार किताबें पढ़ कर वो भी हम जैसे हो जायेंगे
 
किन राहों से दूर है मंज़िल कौन सा रस्ता आसाँ है
हम जब थक कर रुक जायेंगे औरों को समझायेंगे
 
अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हो मुमकिन है
हम तो उस दिन रो देंगे जिस दिन धोखा खायेंगे..
*********************
 

ghazal shayari in hindi font..

 
देखा हुआ सा कुछ है तो सोचा हुआ सा कुछ
हर वक़्त मेरे साथ है उलझा हुआ सा कुछ
 
होता है यूँ भी रास्ता खुलता नहीं कहीं
जंगल-सा फैल जाता है खोया हुआ सा कुछ
 
साहिल की गिली रेत पर बच्चों के खेल-सा
हर लम्हा मुझ में बनता बिखरता हुआ सा कुछ
 
फ़ुर्सत ने आज घर को सजाया कुछ इस तरह
हर शय से मुस्कुराता है रोता हुआ सा कुछ
 
धुँधली सी एक याद किसी क़ब्र का दिया
और मेरे आस-पास चमकता हुआ सा कुछ....
*********************
 

Popular  sad ghazals in hindi...

 
मेरी आँखों में जो, बहता हुवा, ये पानी है - 2
तेरी चाहत, की यही आखिरी निशानी है ...
 
मैंने सोचा था तुम्हे, क्या मगर, तू क्या निकला,
तू भी औरों की तरह, कितना, बेवफा निकला,
दूर जाना था तो फिर, पास बुलाया क्यों था,
तू हमारा है, ये एहसास दिलाया क्यूँ था... 2
मेरी बर्बादी फकत ये तेरी मेहरबानी है,
तेरी चाहत, की यही आखिरी निशानी है........
 
मेरी आँखों में जो, बहता हुवा, ये पानी है......
 
हम तो बर्बाद हुवे, बस यही, खता कर के,
झूठे वादों पे सदा, तेरे भरोसा कर के,
कौन से दिल से बता, तुने भुलाया मुझ को,
कर के धोखा ये, मेरे साथ मिला क्या तुझको... 2
मैंने की तुझ से वफा, ये मेरी, नादानी है,
तेरी चाहत, की यही आखिरी निशानी है
 
मेरी आँखों में जो, बहता हुवा, ये पानी है... 2
तेरी चाहत, की यही आखिरी निशानी है ...
********************
 

Popular  sad love ghazals in hindi...

 

इस शहर-ए-खराबी में गम-ए-इश्क के मारे

ज़िंदा हैं यही बात बड़ी बात है प्यारे

 

ये हंसता हुआ लिखना ये पुरनूर सितारे

ताबिंदा-ओ-पा_इन्दा हैं ज़र्रों के सहारे

ghazals lyrics in hindi

हसरत है कोई गुंचा हमें प्यार से देखे

अरमां है कोई फूल हमें दिल से पुकारे

 

हर सुबह मेरी सुबह पे रोती रही शबनम

हर रात मेरी रात पे हँसते रहे तारे

 

कुछ और भी हैं काम हमें ए गम-ए-जानां

कब तक कोई उलझी हुई ज़ुल्फ़ों को सँवारे

*****************

 

Popular  sad love ghazals in hindi...

 
ये ठीक है कि तेरी गली में न आयें हम.
लेकिन ये क्या कि शहर तेरा छोड़ जाएँ हम.
 
मुद्दत हुई है कूए बुताँ की तरफ़ गए,
आवारगी से दिल को कहाँ तक बचाएँ हम.
 
शायद बकैदे-जीस्त ये साअत न आ सके
तुम दास्ताने-शौक़ सुनो और सुनाएँ हम.
 
उसके बगैर आज बहोत जी उदास है,
'जालिब' चलो कहीं से उसे ढूँढ लायें हम.
 
सिखा देती है चलना ठोकरें भी राहगीरों को
कोई रास्ता सदा दुशवार हो ऐसा नहीं होता
 
कहीं तो कोई होगा जिसको अपनी भी ज़रूरत हो
हरेक बाज़ी में दिल की हार हो ऐसा नहीं होता
 
जो हो इक बार, वह हर बार हो ऐसा नहीं होता
हमेशा एक ही से प्यार हो ऐसा नहीं होता
 
हरेक कश्ती का अपना तज्रिबा होता है दरिया में
सफर में रोज़ ही मंझदार हो ऐसा नहीं होता
 
कहानी में तो किरदारों को जो चाहे बना दीजे
हक़ीक़त भी कहानी कार हो ऐसा नहीं होता...
********************

Post a comment

0 Comments