BEST TWO LINES SHAYARI EVER IN HINDI - BOST SHAYARI

best two line shayari ever in hindi . poetry who attract your friends, girlfriend/boyfriend, wife/husband or any person attraction towards you . best two line Shayari ever in Hindi.

BEST TWO LINES SHAYARI EVER IN HINDI

best two line shayari ever in hindi

तुमने समझा ही नहीं…और ना समझना चाहा,

हम चाहते ही क्या थे तुमसे… “तुम्हारे सिवा”.

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

एक अज़ीब सा रिश्ता है मेरे और ख्वाहिशों के दरम्यां,

वो मुझे जीने नही देती… और मै उन्हे मरने नही देता..!!

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

मैं भी तेरे ईश्क में आतंकवादी बन जाऊं,

तुझे बांहो में ले के बम से उड़ जाऊ !!

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

हमेशा के लिए रखलो ना मुझे पास अपने,

कोई पूछे तो बता देना के किरायेदार है दिल का !!

 

BEST TWO LINES SHAYARI EVER IN HINDI

 

लूट लेते हैं अपने ही,

वरना गैरों को क्या पता इस दिल की दीवार कमजोर कहाँ से है !

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

सीख जाओ वक्त पर किसी की चाहत की कदर करना..

कहीं कोई थक ना जाये तुम्हें एहसास दिलाते दिलाते..

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे..

मैं एक शाम चुरा लूँ अगर बुरा न लगे..!!!

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

मुजे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान है बहुत लोग,

पर किसी ने मेरे पैरो के छाले नहीं देखे…..!!

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

रिश्ते खराब होने की एक वजह ये भी है,

कि लोग झुकना पसंद नहीं करते…!!

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोग

दिल की जगह जिस्म को चाहनें लगे हैं लोग..

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

उदासी तुम पे बीतेगी तो तुम भी जान जाओगे कि,

कितना दर्द होता है नज़र अंदाज़ करने से।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

हम तो सोचते थे कि लफ्ज़ ही चोट करते हैं;

मगर कुछ खामोशियों के ज़ख्म तो और भी गहरे निकले।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

दर्द से हम अब खेलना सीख गए;

बेवफाई के साथ अब हम जीना सीख गए;

क्या बतायें किस कदर दिल टूटा है हमारा;

मौत से पहले हम कफ़न ओढ़ कर सोना सीख गए।

BEST TWO LINES SHAYARI EVER IN HINDI

तेरी याद में ज़रा आँखें भिगो लूँ;

उदास रात की तन्हाई में सो लूँ;

अकेले ग़म का बोझ अब संभलता नहीं;

अगर तू मिल जाये तो तुझसे लिपट कर रो लूँ।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿

हमें भी याद रखें जब लिखें तारीख गुलशन की;

कि हमने भी लुटाया है चमन में आशियां अपना।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

मुझ को तो होश नहीं तुमको खबर हो शायद;

लोग कहते हैं कि तुमने मुझे बर्बाद कर दिया।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

सब कुछ बदला बदला था जब बरसो बाद मिले;

हाथ भी न थाम सके वो इतने पराये से लगे।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

पढ़ तो लिए है मगर अब कैसे फेंक दूँ;

खुशबू तुम्हारे हाथों की इन कागज़ों में जो है।

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

हम तुझ से किस हवस की फ़लक जुस्तुजू करें;

दिल ही नहीं रहा है कि कुछ आरज़ू करें।

⊱✿ ❁ ❄ ⊹ ✬ ⊹ ❄ ❁ ✿⊰

⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰ ⊱✿ ✣ ✿⊰

ऐ आईने तेरी भी हालत अजीब है मेरे दिल की तरह;

तुझे भी बदल देते हैं यह लोग तोड़ने के बाद।

Post a comment

0 Comments